सवाल बहुत है

वास्तविकता को  समझ लेना और खुद को भी समझा लेना , इसमें और हार मान लेने  क्या फ़र्क है?
बहुत कुछ  पाया जा सकता है और  बहुत कुछ नहीं , कब हमें स्वीकार कर लेना चाहिए वर्त्तमान  को। 
ज़िद और सार्थक प्रयास में क्या अंतर है।

 सवाल बहुत है , जवाब कहीं नहीं

Advertisements

3 thoughts on “सवाल बहुत है

  1. Can you please translate to English. I use google translate and this post did not translate well. I am not sure if I understood your words correctly.

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / Change )

Connecting to %s