when will i learn

कितनी बार बिखरा हूँ

समेटना भी सीखा है

 जो मैं था बिखरने से पहले

 समेटे टुकडो में मैं वो नहीं हूँ

 

कोई सब टुकड़े चुने भी क्यूँ

क्यों न हम थोड़े अधूरे ही रहें

 

 इस खालीपन ने सिखलाया है

पूरा देखना खुदको जरूरी नहीं

पूरा महसूस करना बेहतर है

Advertisements

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / Change )

Connecting to %s