अगली रात

रात का कोई रिश्ता हसरतों से है
रात ढ़लती जाती है
हसरतें जगती जाती हैं
जगाती जाती हैं

पत्तों के मुहाने पर अटकी पानी की बूँदें
ये भी रात की रिश्तेदार हैं
सुबह की पहली धुप और विदा अगली रात तक

स्वप्न में डूबता, तैरता मैं
और नींद से जागने के बाद का यतार्थ
वर्तमान की चोट, और बेखबरी की रात
मैं शर्मसार हूँ, अगली रात तक

Advertisements

4 thoughts on “अगली रात

  1. Night is everyone’s own, isnt it?
    रात हमारी तो चाँद की सहेली है , कितने दिनों के बाद आई वो अकेली है

    But no need to be ashamed of anything

    1. Hey R…That is a nice line you wrote…I am not ashamed, it’s more like i stray sometimes….and after roaming in those alley for a while i think, that’s not the right thing to do….

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / Change )

Connecting to %s