मील का एक पत्थर

संजोये गए लम्हे ही ज़िन्दगी हैं
जिस मोड़ पर रुके हैं कदम
जहाँ खड़े हैं
उसके पीछे हैं कदमों के निशान
मील के पत्थर हैं वो निशान
हर पत्थर एक बीता हुआ जरूरी लम्हा है
मैं जब भी रुकता हूँ
एक पल पीछे देखता हूँ
तय हुआ है जो सफ़र, क्या मुक़ाम का पता भी बताएगा
मंजिल को तो मैं पहचानता भी नहीं
मंजिल भी कहीं मील का एक पत्थर तो नहीं

It’s would be my b’day after another 30 minutes…19 Sep..
I am truly grateful to god or lot of things in my life. I hope next year would be much more fulfilling in every aspect.

Advertisements

6 thoughts on “मील का एक पत्थर

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / Change )

Connecting to %s