Lakshya

कभी किसी ऐसे राही से मिलो
जिसे मंजिल का पता भी ना हो
हर मोड़ एक इम्तिहान हो जिसके लिए
सुबह का सूरज नया ना हो जिसके लिए
शाम सिर्फ ठहर जाने का नाम हो

बिना लक्ष्य के कैसे जिया जाता है
पर हम जीये जाते हैं
खुद को जान पाएं
सामर्थ्य हो किसी को प्यार करने का
इसे लक्ष्य समझता हूँ मैं

Advertisements

3 thoughts on “Lakshya

  1. thats what only left when body turns to ashes and the soul sets free ….its light and happy then ..probably what we call Moksha

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / Change )

Connecting to %s